सांस्कृतिक आयाम

भारतीय संस्कृति को समर्पित ब्लॉग © & (P) All Rights Reserved

24 Posts

4303 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3669 postid : 461

"गुमान"

Posted On: 7 Sep, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तुम थे अपने कभी ऐसा गुमान हो जाए,

क़दमों तले की ज़मीं भी आसमान हो जाए;

मेरी आँखों के आगे मेरे मुर्शीद हो मगर,

ज़िंदगी फिर भी कोई इम्तिहान हो जाए;

कुछ न बोला तुझसे रूबरू अब तलक,

वो बात ही क्या जो लफ़्ज़ों में बयान हो जाए;

गुज़रे लम्हात थे इस क़दर हसीं यारों,

याद आयें तो ग़म में भी ख़ुशी का जहान हो जाए;

गुल इबादत का जो शिवाले में चढ़ाया है,

वो किसी की तिजारत का सामान हो जाए;

जो छुपा था मेरे दिल में राज़ बनके कब से,

वो उनके दिल की ख़ामोश ज़ुबान हो जाए;

तू अता कर वो अदा ऐ परवर दिगार मुझे के,
बन्दे के कारनामों से तू ख़ुद हैरान हो जाए;

जिसने आग लगाईं थी किसी सब्ज़ बाज़ीचे में,

क्या हो गर वो गुलिस्तां का बाग़बान हो जाए;

मुख़्तलिफ़ लोग मिले पर न कहीं दिल ये मिला,

काश कोई अपना भी हमज़ुबान हो जाए;

जिसने पाला मुझे बाख़ुशी ग़मों से दूर बहुत,

काँपता-थरथराता हाथ वो फिर जवान हो जाए;

काश सुन लेता ख़ुदा आज मेरे दिल की दुआ,

काश पूरा मेरा बस एक यही अरमान हो जाए;

गलियों में खेलते तौफ़ीक़ बच्चों सा ‘वाहिद’

मुल्क का मेरे हर एक इंसान हो जाए;

आएगा कोई ऐसा दौर भी क्या कभी यहाँ,

गर्दे ज़मीं भी फ़लक की हुक्मरान हो जाए;

============================================

मुर्शीद = गुरु/उस्ताद, तिजारत = कारोबार/धंधा, सब्ज़ बाज़ीचा = हराभरा बाग़,

तौफ़ीक़ = मासूम/निश्छल, हुक्मरान = नेता/राजा

| NEXT



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

631 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran